AstrologyFutureEye.Com

Indian Astrology Portal

Aarti - Hindi Aarti Collection - आरती

What is aarti and how to do aarti?
Aarti is a spiritual ritual in Hinduism. Aarti called Aratrika or Niranjan in Sanskrit and Aarthi, Arathi also. Niranjan is the way to bow the deity and beg forgiveness for any mistake in worship. Indeed, aarti is a way of prayer to the almighty God. According to Hinduism, performing the aarti or including in ritual, makes spiritual benefits and holy merit.
Usually, it can be performed by one or five sand lamp (Deepak). The lamps should be placed in odd number such as one, three or five. Five parts are called for Aarthi ritual, first through Deepak, second through conch with water, third through a holy cloth, fourth through the leaf of mango tree or Peepal tree and fifth through the bow to the divinity. Niranjan should be performed with musical instruments.
Aarti should be performed towards the deity and circulate towards legs of God for four times, then two times towards the waist, one time towards the face of deity and seven times towards to the whole idol.

Download PDF Aarti Book Hindi

Aarti PDF Book

Downloaded: 6077 Times

PDF Version

आरती को संस्कृत में नीराजन कहा जाता हैं, पुजन एवं आराधना में जो त्रुटि रह जाती हैं, आरती कर के उस त्रुटि का समापन किया जाता हैं. यथार्थ में, आरती द्धारा प्रभु का स्तवन किया जाता हैं. आरती का एक और अर्थ भी लिया जाता हैं, की आरती द्धारा भक्त अपने प्रभु के अरिष्टों का शमन करता हैं. आरती करने एवं देखने का पुण्य असीमित होता हैं, आरती करने एवं आरती में भाग लेने वाले व्यक्ति का अपनी सात पीढ़ियों समेत उद्धार होता हैं.
साधारणत:, आरती के पांच अंग होते हैं, पर पञ्च प्रदीप द्धारा भी आरती की जा सकती हैं, आरती के दीपक विषम संख्या में रखे जाते हैं, जैसे एक, तीन, पांच या ग्यारह आदि. आरती के पांच अंग हैं - प्रथम दीपक के द्धारा, दूसरी जलयुक्त शंख से, तीसरी धुले हुए वस्त्र से, चौथी आम और पीपल के पत्तों से और पाँचवी साष्टांग दण्डवत् एवं प्रदक्षिणा से आरती करे. आरती के समय धूप किया जाता हैं, और शंख, ढोल, नगाड़े बजाये जाते हैं.
आरती कैसे की जाती हैं
आरती उतारते समय, प्रभु के चरण कमल में चार बार, दो बार कटी प्रदेश की तरफ, एक बार मुख मंडल की तरफ और सात बार समस्त अंगो की तरफ आरती घुमाई जाती हैं.

Download Mobile Aarti Book Hindi

Aarti Anthology - Aarti Kusumavali

Downloaded: 5624 Times

Epub Version

Aartis of Hindu Gods and Goddesses in Hindi - Hindu Aarti - Graha Aarti - Jain Aarti - How to do Aarti

Aartis Index
Indian God Aartis Songs
Ganesh Aartis   - गणेश आरती ~ 3
Shiva Aartis   - शिव आरती ~ 2
Bhairav Aarti   - भैरव आरती
Hanuman Aartis   - हनुमान आरती - मेहंदीपुर बालाजी आरात्रिक
Vishnu Aarti   - विष्णु आरती - नरसिंह आरात्रिक - सत्यनारायण आरती
Krishna Aartis   - कृष्णा आरती - खाटू श्यामजी आरात्रिक
Shri Ram Aartis   - राम आरती ~ 2
Sai baba Aarti   - साईँ बाबा आरती ~ 2
Indian Goddess Aartis Songs
Jagdamba Aarthi   - जगदम्बा आरती - दुर्गा आरात्रिक
Kaali Aarthi   - काली आरात्रिक
Vaishno Devi Aarthi   - वैष्णो देवी आरात्रिक
Lakshmi Aarthi   - लक्ष्मी आरात्रिक
Saraswati Aarthi   - सरस्वती आरात्रिक
Gayatri Aarhti   - गायत्री आरात्रिक
Parvati Aarthi   - पार्वती आरात्रिक - विन्ध्येश्वरीदेवी आरात्रिक
Graha Aartis Songs
Suryadev Arati   - सूर्य आरती
Shanidev Arati   - शनिदेव आरती
Jain Aartis Songs
Thirthankar Aratis   - आदिनाथ आरात्रिक - पार्श्वनाथ आरती - महावीर स्वामी आरती
Padmavati Arati   - पद्मावती आरात्रिक
Nakoda Bhairav Arati   - नाकोडा भैरव आरती
Jain Gurudeva Arati   - जिन कुशल सूरी आरात्रिक - श्री राजेन्द्र सूरी आरती
Jain Aartis   - पंच परमेष्टि प्रभु आरात्रिक - मंगल दीपक आरात्रिक


Download all aartis book - Aarti Anthology - आरती कुसुमावली


Share on