AstrologyFutureEye.Com

Indian Astrology Portal

Ask The AstrologerAscendant ForecastName Love CompatibilityVedic Child PlannerCrystal Ball PredictionOnline Psychic ParrotZodiac Sign FinderNumerology PredictorLove Compatibility TestGrow Psychic PowersOnline Stock Market PredictionGold Forecast PredictorVarious Market PredictorSilver PredictorClosing Market PredictionOnline Kundli MatchingMoon Sign FinderOnline Vedic PrashnavaliBirth Date CompatibilityMystic GenieOnline Ghati ConverterSun Sign CalculatorName PredictionsMagic Mantra BallNakshtra Finder

Judgement Day Prediction - प्रलय

Astrology about world end ? - Prophecy of Earth destruction

मानव हमेशा से प्रलय के बारे में जानने को उत्सुक रहा हैं, लेकिन कोई भी इसके बारे में सही भविष्यवाणी नहीं कर पाया हैं । भारतीय ज्योतिष और वैदिक पुराण प्रलय के बारे में हजारों साल पहले बता चुके हैं । पुराण कहते हैं, की अभी तक लाखो साल प्रलय में बाकी हैं । मार्कंडेय पुराण के अनुसार हमारी दुनिया की एक उम्र हैं, जिसे मन्वंतर कहते हैं, जब एक मन्वन्तर पूर्ण होता हैं, तब धरती का विनाश होता हैं, और जब ब्रह्माजी की आयु पूर्ण होगी, तब पुरे ब्रह्माण्ड का विनाश हो जायेगा । जानिए, दुनिया और ब्रह्माण्ड के अंतिम दिन के बारे में, यध्यपि, इन भविष्यवाणियों का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं हैं, ये पूरी तरह से अनुमानों एवं पुराणों इत्यादि के कथन पर आधारित लेख एवं प्रलय काल गणना हैं ।

Read Doomsday Calculation in English

Vedic calculation of last day - Doomsday forecast - Judgement day in Hindi

प्रलय कब होगी ?
काल मान

वर्तमान ब्रह्मांड की कुल आयु = 4,32,00,00,000 वर्ष
व्यतीत मन्वंतर = 6 मन्वंतर
वर्तमान कलियुग के व्यतीत वर्ष = 5113
वर्तमान सृष्टि के कुल व्यतीत वर्ष = 1,97,29,49,113 वर्ष
महाप्रलय में शेष वर्ष = 2,34,70,50,077
धरती का विनाश = 1 मन्वंतर
1 मन्वंतर = 71 महायुग
1 मन्वंतर = 284 चतुर्युग
1 चतुर्युग = 4 युग (सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग, कलियुग)
सतयुग का आयु = 1728000 वर्ष
त्रेतायुग का आयु = 1296000 वर्ष
द्वापर युग का आयु = 864000 वर्ष
कलियुग का आयु = 432000 वर्ष


अभी चल रहा है 28 वें चतुर्युग का कलियुग इसलिए अभी हजारों वर्ष मन्वंतर की समाप्ति में बाकी है अत: 2012 में धरती का विनाश नहीं हुआ और आगे भी लाखों वर्षों तक सम्भावना नहीं हैं ।


सृष्टि या ब्रह्मांड का विनाश ब्रह्मा की आयु (100 दिव्य वर्ष) पूर्ण होने के बाद होता है


ब्रहमांड आयु - काल मान


ब्रह्मांड आयु = ब्रह्मा की आयु (100 दिव्य वर्ष)
ब्रह्मा का 1 वर्ष= 1000 देवताओ के दिव्य वर्ष या {देवता का एक दिन/एक रात्रि = मानव वर्ष के 6 महीने(दिन) 6 महीने(रात)}
ब्रह्मा का एक वर्ष = 720000 महायुग (एक महायुग = 4 युग) या
ब्रह्मा का एक वर्ष = 2880000 युग
ब्रह्मा का एक वर्ष = 3110400000000 मानव वर्ष
ब्रह्मा का एक दिन = 1000 महायुग या चतुर्युग
ब्रह्मा का एक रात = 1000 महायुग या चतुर्युग


अभी वर्तमान ब्रह्माजी के पहले दिन की दोपहर का मध्यान काल चल रहा है अत: ब्रह्माण्ड के विनाश में अरबो वर्ष बाकी है |


धार्मिक उल्लेख


आगम में महावीर स्वामी भगवान् ने कहा है "भविष्य में बहुत से लोग धरती के विनाश की भविष्यवाणी करेंगे और लोगों को भर्मायेंगे किन्तु जिस दिन विनाश होगा उस दिन के बारे में कोई भविष्यवाणी नहीं कर पायेगा |"


अभी भगवान विष्णु के दसवें अवतार "कल्कि" का आना बाकी है जो संसार में धर्म का मार्ग प्रशस्त करेंगे और विश्व को एक सूत्र में बांधेगे इस का वर्णन जैन आगम शास्त्रों में भी मिलता है


नास्त्रेदमस के अनुसार 21 वीं सदी के अंत में महायुद्ध होगा जिसकी कमान पूर्व के देश जो तीन तरफ से पानी से घिरा होगा के एक व्यक्ति के हाथ में होगी, वो संपूर्ण विश्व को एक सूत्र में बांधेगा उसी कल्कि अवतार की और इशारा करते है | अभी 21 वीं सदी के अंत में कई वर्ष बाकी है | तो निष्कर्ष ये की "कल्कि" अवतार धर्म के उत्थान के लिए आयेंगे न की विनाश के लिए |


21 December 2012 - why world did not end ?
21 दिसम्बर 2012 को संसार नष्ट क्यों नहीं हुआ ?


21 दिसम्बर 2012 को प्रात: मुंबई (हिन्दुस्तान) के समय 07 .08 .09 बजे की ज्योतिष कुंडली के अनुसार (भारत में सूर्योदय के साथ दिन का आरम्भ माना जाता है) ये कुंडली बनती है

इस सन्दर्भ में हमने निम्न भविष्यवाणी की थी, जिसका उल्लेख कर रहे हैं


Judgement Day Forecast

सूर्योदय:07:08:09
सूर्यास्त:18:05:35
मार्गशीर्ष - शुक्ल पक्ष
तिथि:नवमी
नक्षत्र:उत्तराभाद्रपद
चन्द्र:मीन

ψ Kundali Matching Kundli Milan

ψ Get Moon Sign Moon Sign Calculator

ψ Nakshtra Finder Nakshtra Calculator

ψ Ball Tells Mantra Mantra Globe

ψ Calculate For Sun Sign Calculator

ψ Ghati - Pal - Vipal Nazhika Converter

ψ Gold Price calculation Gold Predictor

ψ Silver Prediction Silver Predictor

ψ Stock Market Stock Market Predictor

ψ Market Motion Other Market Predictor

ψ Market Transit Closing Bell Predictor

ψ Genie's Magical Game Mystic Genie


इस कुंडली के अनुसार धनु लग्न है एवं उसका स्वामी गुरु 6 वें त्रिक भाव में शुक्र की राशी में है और केतु से पाप पीड़ित है अत: लग्न निर्बल है अत: इस दिन की शुरुआत ठीक नहीं होगी परन्तु अगर आयु विचार करे तो अपने मित्र गुरु की राशी में स्तिथ सूर्य पूर्ण आयु का संकेत देता है एवं शनि की महादशा जो सुबह से लग रही है तो यहाँ पर शनि एकादश भाव में भाग्य विधाता है और मारकेश नहीं है | चन्द्रमा भी अपने कारक भाव चतुर्थ में बली है अत: पूर्ण आयु योग है | चन्द्रमा अष्टमेश (आयु का कारक) हो कर केंद्र में होने से बली है, अष्टमेश आयु का कारक है अत: पूर्ण आयु योग है | केवल राहू की पंचम दिर्ष्टि चतुर्थ भाव (जनता का भाव) एवं चन्द्रमा (जनता) पर पड़ने के कारण भय का वातावरण जनता के बीच बनेगा | परन्तु पूर्ण आयु योग का मतलब विनाश नहीं होगा |




Share on